WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

राज्य में जीएम सरसों की खेती पर लगा प्रतिबंध मुख्यमंत्री का बड़ा बयान देखे पूरी खबर

राज्य में जीएम सरसों की खेती पर लगा प्रतिबंध

राज्य में जीएम सरसों की खेती पर लगा प्रतिबंध राजस्थान में जीएम सरसों की खेती की अनुमति नहीं देने की घोषणा राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा है। कि राज्य में केवल परम्परागत किस्मों की सरसों का उत्पादन होगा और जीएम सरसों की व्यावसायिक खेती की अनुमति नहीं दी जाएगी। उल्लेखनीय है। कि राजस्थान सरसों का सबसे बड़ा उत्पादक प्रान्त है और कुल राष्ट्रीय उत्पादन में 45 प्रतिशत का योगदान करता है।

स्टॉक लिमिट के बाद भी गेंहू का बाजार तेज देखे दैनिक रिपोर्ट 2023

पिछले दिनों प्रांतीय राजधानी की मंडी में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की कृषि एवं खाद्य उत्पाद परीक्षण प्रयोगशाला का शिलान्यास करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि राजधानी मंडी में प्रयोगशाला निर्माण के लिए राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार संघ को मुफ्त में जमीन उपलब्ध करवाई गई ताकि इसे देश की सबसे बड़ी परीक्षण प्रयोगशाला के तौर पर निर्मित किया जा सके। मुख्यमंत्री का कहना था कि इस तरह की प्रयोगशाला से भारतीय कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप उत्पाद बनाने में सहायता मिलेगी। इससे राजस्थान में निर्यात का एक नया आयाम स्थापित हो सकेगा।

सरसों के भाव में सुधार देखे ताजा रिपोर्ट ;सरकार ने घटाया आयात शुल्क sarson ka bhav 2023

बिपोर्जोय तूफान भारी बारिश मौसम विभाग का अलर्ट जारी

शिलान्यास के अवसर पर राजस्थान के कृषि मंत्री, उद्योग मंत्री, पी एच ई डी मंत्री तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री के साथ अनेक वरिष्ठ अधिकारी, रीको के डायरेक्टर, राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार संघ के अध्यक्ष बाबूलाल गुप्ता एवं उपाध्यक्ष डॉ० मनोज मुरारका एवं प्रमुख व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

जीएम सरसों के दुष्परिणाम

डॉ० मुरारका द्वारा जीएम सरसों के बारे में अवगत करवाए जाने पर मुख्यमंत्री ने इसके दुष्परिणाम पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए डॉ० मुरारका तथा राज्य के कृषि मंत्री मुरारीलाल मीणा को जीएम सरसों के दुष्परिणाम के बारे में एक ज्ञापन तैयार करके सौंपने के लिए कहा ताकि इसे केन्द्र सरकार के समक्ष प्रस्तुत करके समूचे देश में इसके ट्रायल तथा व्यावसायिक उत्पादन पर रोक लगाने का पुरजोर प्रयास किया जा सके।

राजस्थान में इसकी स्वीकृति नहीं दिए जाने का भी निर्णय लिया गया। इस अवसर पर डॉ० मनोज मुरारका द्वारा सरसों एवं सरसों तेल पर किए गए गंभीर अध्ययन की प्रशंसा करते हुए उन्हें विश्व में भारत, राजस्थान एवं सरसों को गौरवान्वित करने के लिए उन्हें प्रथम सरसों पुरुष की उपाधि तथा प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया। दरअसल डॉ० मनोज मुरारका का नाम देश-विदेश में फैला हुआ है।

उन्हें प्रधानमंत्री द्वारा भारत सरकार का पुरस्कार एवं राजस्थान सरकार द्वारा राजस्थान रत्न एवं राजस्थान गौरव पुरस्कार पहले ही प्राप्त हो चुका है। इसके साथ-साथ डॉ० मुरारका को अमरीका, स्पेन, इटली, फ्रांस, इजरायल एवं नेपाल सहित अनेक देशों में उनके अध्ययन के लिए सम्मानित किया जा चुका है। उनकी फर्म द्वारा उत्तम क्वालिटी के सरसों तेल का उत्पादन एवं व्यवसाय किया जा रहा है। उन्होंने लम्बे संघर्ष के बाद भारत सरकार को सरसों तेल में मिश्रण के नियम को बंद करवाने के लिए राजी कर लिया।

दोस्तों हमारी वेबसाइट पर आपको रोजाना ताजा मंडी भाव, फसलो की तेजी मंदी रिपोर्ट. वायदा बाजार भाव, खेती बाड़ी समाचार, मौसम जानकारी और खेती बाड़ी से जुडी सभी जानकारियां उपलब्ध करवाई जाती है। साथियों व्यापार अपने विवेक से करे एवम किसी भी प्रकार का निवेश करने से पहले एक बार आंकड़े जरुर चेक करे। facebook और YOUTUBE पर हमसे जुड़ने के लिए सर्च करे FARMING XPERT