WhatsApp Group से जुड़े
Join Now
Facebook Page (70k) से जुड़े Follow
Whatsapp Channel से जुड़े Follow Now

 

अंतराष्ट्रीय बाजार बढ़ने से घरेलू सरसों सोयाबीन के बाजार में रिकवरी भाव में लौटने लगी रोनक 2023 sarson ka bhav

नमस्कार किसान साथियो 2023 sarson ka bhav और सोयाबीन के भावो में पिछले दो से तिन दिनों के अंदर अच्छा सुधार देखने को मिल रहा है । आइये जानते है सरसों और सोयाबीन के भाव में कब और कितनी तेजी आ सकती है । और फ़िलहाल बाजार में क्या कुछ चल रहा है । विदेशी बाजार में आई तेजी के कारण किसान मित्रो भारतीय घरेलू बाजार के अंदर तेजी यानी सुधार का रुख दोनों फसलो सरसों और सोयाबीन के अंदर बना हुआ है ।

 2023 sarson ka bhav
2023 sarson ka bhav

सरसों में तेजी कब आयेगी / सरसों का भाव कब बढ़ेगा 2023 ; 2023 sarson ka bhav

सरसो-आवक घटने और विदेशी बाजारों में जोरदार तेजी से सरसो में सुधार अंतराष्ट्रीय बाजार ख़राब मौसम की चिंता से बेहिसाब बढ़ गया है। सोया, पाम जैसे तेलों में तेजी को देखते हुए सरसो तेल में भी 2-3 रुपये की बढ़त आयी पिछले कुछ दिनों से ग्राहकी में सुधार हुआ था लेकिन अब ऊपरी स्तरों में डिमांड अटकै सकती है। विदेशी बाजारों में 10% से ज्यादा की तेजी बावजूद सरसो में 75-100 रूपए के बीच ही बढे है। वहीं सरसो तेल में भी 3 रुपये/किलो का ही सुधार हुआ है। सरसो मैं सुधार की उम्म्मीद में किसान स्टॉक रोक रहा है। जयपुर सरसो ( 2023 sarson ka bhav ) 5450-5500 के करीब आने पर बिकवाली बढ़ने से मौजूदा रिकवरी रुक सकती है।

यह भी जाने –

राज्य में जीएम सरसों की खेती पर लगा प्रतिबंध मुख्यमंत्री का बड़ा बयान देखे पूरी खबर

स्टॉक लिमिट के बाद भी गेंहू का बाजार तेज देखे दैनिक रिपोर्ट 2023

सोयाबीन का रेट / सोयाबीन के भाव में तेजी कब आएगी 2023

सोयाबीन-मानसून में देरी और अब तक सामान्य से कमजोर बारिश के चलते सोयाबीन की बुवाई पिछड़ी 16 जून तक देश में 21000 हेक्टेयर में ही सोयाबीन की बुवाई हुई जबकि पिछले वर्ष इस समय 68000 हेक्टेयर में बुवाई पूरी हुई थी अंतराष्ट्रीय बाजार शुष्क मौसम से मजबूत हैं तो घरेलु बजार में भी सोयाबीन में सुधर दिख रहा है।

Msp update – नरमा सहित प्रमुख खरीफ फसलों की एमएसपी में हुई बढ़ोतरी देखे लिस्ट

farming xpert ने अपने साप्ताहिक रिपोर्ट में ख़राब मौसम से सोयाबीन में रिकवरी की बात कही थी जो की सही साबित हुआ किसान स्टॉकिस्ट के पास अब भी काफी बड़ी मात्रा में स्टॉक बचा है। जो की सोयाबीन पर दबाव दाल रह है। ऊपर से लगातार हो रहे है। आयात के चलते भरपूर स्टॉक उपलब्ध है। डीओसी की एक्सपोर्ट पैरिटी कमजोर होने से आगे निर्यात धीमी पड़ सकती है। मानसून की देरी और मौसम की चाल को देखते हुए 200-250 रूपए की सुधर हो सकती है।

डिस्क्लेमर – किसान साथियो व्यापार अपने विवेक से करे हमारा उदेश्य सिर्फ किसानो तक जानकारी पहुँचाना है . किसी भी प्रकार के लाभ और हानि के लिए farming xpert जिमेवार नहीं है . धन्यवाद जय जवान जय किसान

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी