WhatsApp Channel Join Now

Soyabean mandi rate today – और गर्म होगा सोयाबीन का बाजार निर्यात पहुंचा रिकॉर्ड स्तर पर

Soyabean mandi rate today – नमस्कार किसान साथियो आज की इस पोस्ट में जानेगे सोयाबीन का भाव आगे क्या कुछ रह सकता है | सोयाबीन का उत्पादन कितना हुआ | और विदेशी बाजारों में सोयाबीन का रुझान क्या कुछ है | जानेगे सम्पूर्ण जानकारी –

विदेशों में मजबूत मांग से सोयाबीन के निर्यात में जोरदार वृद्धि के आसार। दक्षिण पूर्व एशिया एवं सुदूर-पूर्व के देशों में भारतीय सोयाबीन की मांग काफी अच्छी देखी जा रही है जिससे 2022-23 संस्था सोयाबीन के वर्तमान मार्केटिंग सीजन के दौरान देश से इसका कुल निर्यात पिछले सीजन की तुलना में दोगुना से अधिक बढ़कर 14 लाख टन तक पहुंच जाने का अनुमान लगाया जा रहा है। सोया मील का निर्यात बेहतर ढंग से आरंभ हुआ है। और चालू मार्केटिंग सीजन के शुरुआती चार महीनों में शिपमेंट 3.83 लाख टन से 65 प्रतिशत बढ़कर 6.31 लाख टन पर पहुंच गया।

Soyabean mandi rate today
Soyabean mandi rate today

इंदौर स्थित प्रोसेसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सोपा) के कार्यकारी निदेशक का कहना है कि लैटिन अमरीकी देशों अर्जेन्टीना एवं ब्राजील में मौसम संतोषजनक नहीं होने से सोया डीओसी का वैश्विक बाजार भाव तेज होता जा रहा है। जिससे भारतीय सोयाबीन की मांग अनेक देशों में बढ़ने लगी है। इसमें जापान और वियतनाम भी शामिल है।

ऐसे में सोयाबीन का बाजार थोडा और बढ़ सकता है | किसान साथियो व्यापार अपने विवेक से करे हमारा उदेश्य सिर्फ किसानो तक जानकारी पहुँचाना है | Soyabean mandi rate today

चालू सीजन में सोयाबीन का भारत से निर्यात – Soyabean mandi rate today

मार्केटिंग सीजन की सम्पूर्ण अवधि में भारत से कुल 6.40 लाख टन सोयाबीन का निर्यात हुआ था जबकि चालू मार्केटिंग सीजन के आरंभिक चार महीनों में ही शिपमेंट उसके करीब पहुंच गया। इस बार पूरे मार्केटिंग सीजन में कुल निर्यात बढ़कर 14-15 लाख टन पर पहुंच सकता है।

यह भी जाने – क्या गेहू पर मिलेगा बोनस | लम्पी से हुई मौत पर 40 हजार का मुआवजा | आज का ताजा नरमा कपास भाव

उल्लेखनीय है कि 2020-21 के सीजन में सोयामील का निर्यात बढ़कर 19.20 लाख टन की ऊंचाई पर पहुंचा था मगर 2021-22 सीजन के दौरान लुढ़ककर 6.40 लाख टन पर सिमट गया क्योंकि भारतीय उत्पाद का भाव अंतर्राष्ट्रीय बाजार में गैर प्रतिस्पर्धी हो गया था।

लेकिन इस बार चूंकि वैश्विक बाजार भाव ऊंचे स्तर पर है बरकरार इसलिए भारतीय डीओसी विदेशी खरीदारों के लिए आकर्षक एवं प्रतिस्पर्धी हो गया है। घरेलू प्रभाग में सोयाबीन का भाव घटकर काफी नीचे आ गया है। सबसे प्रमुख उत्पादक राज्य मध्य प्रदेश की विभिन्न थोक मंडियों में इसका मॉडल मूल्य 5000 रुपए प्रति क्विंटल से कुछ ही ऊंचा चल रहा है। इसी तरह एक्स-फैक्टरी आधार पर इंदौर में एफएक्यू श्रेणी सोयामील के का दाम 45000/45300 रुपए प्रति टन के बीच बताया जा रहा है।

विदेशी बाजारों में सोयाबीन का रुझान – सोयाबीन भाव

अर्जेंटीना में कमजोर उत्पादन के चलते भारत का सोयाबीन निर्यात बढेगा भारतीय सोयामील दक्षिण अमेरिकी सप्लाई से सस्ता है। बांग्लादेश, वियतनाम, नेपाल ने भारत से खरीदारी बढ़ाई फरवरी-मार्च के बीच निर्यात 500,000 टन तक पहुंचने का अनुमान अर्जेंटीना के उत्पादन में गिरावट ने भारतीय सोयामील को और अधिक प्रतिस्पर्धी बना दिया है

2022/23 वर्ष के पहले चार महीनों में भारत का निर्यात 65% बढ़कर 631,000 टन हो गया पहले चार महीनों में निर्यात पूरे पिछले वर्ष में निर्यात किए गए 644,000 टने के करीब है निर्यात में तेजी आई है और यह कम से कम मध्य अप्रैल तक बना रहेगा भारतीय सोयामील को मार्च शिपमेंट के लिए लगभग $580 से $585 प्रति टन एफओबी बोलै जा रहा है, जबकि अर्जेंटीना सोया मील एफओबी – $591 है। यदि वैश्विक कीमतें मौजूदा स्तर पर बनी रहती हैं, तो भारत 2022/23 में आसानी से 20 लाख टन से अधिक निर्यात कर सकता है।

सोयाबीन का उत्पादन आंकड़ा –

सरकारी अग्रिम उत्पादन अनुमान आकड़ें व इसका बाजारों पर असर कृषि विभाग द्वारा जारी दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान में इस वर्ष 139 लाख टन सोया उत्पादन का अनुमान जो गत वर्ष 129.87 व 2020-21 में 126.1 लाख टन था। सोया का रिकॉर्ड उत्पादन पहुँचने का अनुमान दिया गया।सोया का जितना सोया उत्पादन होता है पूरा खप जाता है, सोया तेल की खपत को पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर रहना पड़ता है। कृषि विभाग, सोपा एवं अन्य एजेंसियों द्वारा दिए आकड़ों में भारी अंतर। हो सकता है कि अंतिम उत्पादन अनुमान में उत्पादन कुछ घटाया जाये। 

Soyabean mandi rate today | आज का सोयाबीन भाव | ncddex soyabean bhav | soyapricetoday | soyabean rate today mp | akola soyabean bhav | latur soyabean bhav | Maharashtra soyabean rate |