WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

गेहूं का समर्थन मूल्य 2022-23 पर सरकारी खरीद शुरू पंजीयन प्रक्रिया में बदलाव

गेहूं का समर्थन मूल्य 2022- 23 । मध्यप्रदेश में समर्थन मूल्य ( msp) पर गेहूं खरीद के लिए 1 फरवरी से रजिस्ट्रेशन /पंजीयन शुरू होंगे। किसान साथी 25 फरवरी तक पंजीयन करा पाएंगे । पंजीकरण की सारी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। किसान साथी किस सेंटर पर अपनी उपज बेचना चाहते हैं, किस तारीख को अपनी उपज लेकर जाएंगे, यह सेलेक्ट करने की सुविधा किसानों को प्रदान की गई है। किसान पंजीयन के समय इन दोनों विकल्पों का उपयोग कर सकते हैं। कियोस्क, लोक सेवा केंद्र पर पंजीयन की शुल्क राशि भी शासन ने तय कर दी है। 50 रुपए पंजीयन फीस इसके लिए निश्चित की गई है

गेहूं का समर्थन मूल्य
गेहूं का समर्थन मूल्य पर ख़रीद

यहां करवाना होगा गेहूं का समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए पंजीयन –

यह भी पढ़ें – आज का देशभर की मंडियो में ताज़ा भाव

ग्वार के भाव कब बढ़ेंगे यहां क्लिक करें

एमपी ऑनलाइन कियोस्क, कॉमन सर्विस सेंटर, लोक सेवा केंद्र और प्राइवेट साइबर कैफे पर पंजीकरण करवा सकते हैं। यहां किसानों को प्रति पंजीयन की फीस 50 रुपए देनी होगी।

ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत, तहसील कार्यालय, सहकारी समितियों एवं विपणन संस्थाओं द्वारा सुचारू रूप से संचालित पंजीयन केंद्र और एमपी किसान एप पर नि:शुल्क ( बिना किसी पैसे) पंजीयन होंगे।

करनी होगी यह प्रक्रिया – पहले और अब दोनो में बदलाव

पहले किसान को अपनी फसल बेचने के लिए फ़ोन पर SMS मिलता था। जिसमें दिनाक लिखी होती थी, उसी दिन किसान साथियों को गेहूं लेकर सेंटर पर जाना होता था! जिससे काफी बार किसान परेशान भी होते थे।

नई व्यवस्था में किसान स्वयं ही दिन, समय और सेंटर तय कर पाएंगे।आधार डाटाबेस में वर्तमान मोबाइल नंबर लिंक नहीं होने के कारण OTP प्राप्त नहीं होगा। ऐसी हालत में फ़िलहाल चालू मोबाइल नंबर आधार केंद्र या पोस्ट ऑफिस में जाकर लिंक करा लें। फिर आपका रजिस्ट्रेशन हो पाएगा ।

यदि आधार नंबर में मोबाइल नंबर सही होने पर भी OTP नहीं मिला तो एक बार फिर से प्रयास कर लें। हो सकता है कि मोबाइल नेटवर्क की दिक्कत हो।

फसल के रकबे में अंतर हो और पंजीयन नहीं हो रहा हो तो ?

एमपी किसान एप में जाकर दावा-आपत्ति का ऑप्शन स्लेक्ट कर लें। इसमें सही फसल, रकबा और सिंचित-असिचिंत रकबे की स्थिति सभी जानकारियां सही से देवे !

पटवारी, नायब तहसीलदार, तहसीलदार से संपर्क करके समस्या का हल पा सकते है। गिरदावरी में संशोधन करने के बाद ही पंजीयन हो पायेगा।

किसान मूल भूमि-स्वामी की मृत्यु होने पर गेहूं की फसल का पंजीयन नहीं हो रहा?

खातेदार का निधन होने पर उत्तराधिकारी के नाम से भूमि का नामांकरण होने पर ही वारिस के नाम से पंजीकरण हो सकेगा।

गेहूं बेचने के बाद पैसे की प्रक्रिया – किसान के किन बैंक खातों में भुगतान होगा ?

किसान के आधार से लिंक बैंक खाते में ही फसल के पैसे का भुगतान किया जाएगा। वहीं, पंजीयन के समय लिए गए बैंक अकाउंट में विशेष परिस्थितियों में ही भुगतान की व्यवस्था की जाएगी।

किसान साथी अपने मोबाइल से पंजीयन नहीं कर पा रहे हैं तो ये होंगे अन्य विकल्प -सहकारी समिति एवं सहकारी विपणन संस्था द्वारा संचालित पंजीयन केंद्रों एवं एमपी ऑनलाइन कियोस्क या कॉमन सर्विस सेंटर पर पंजीयन आप करवा सकते हैं।

धन्यवाद किसान साथियों । हमारा उद्देश्य सिर्फ किसानों तक सटीक जानकारी पहुंचाना है। जय जवान जय किसान

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी