WhatsApp Channel Join Now

इस चारे को एक बार लगाकर पशुओ को 5 साल तक खिलाये फिर भी ख़त्म नही होगी

एक बार लगाये 5 साल खिलाये

नेपियर बाजरा हरा चारा: एक बार चरने पर पांच साल तक उगाया, गाय, भैंस, बकरी और भेड़ के लिए उपयोगी, बीज की गुणवत्ता देखें
नेपियर हरा ज्वार, जिसे हम हाथी घास भी कहते है यह एक बारहमासी घास की प्रजाति है इसकी चारे के रूप में खेती बड़े स्तर पर की जाती है, खासकर उष्णकटिबंधीय इलाको में। इसका घास का नाम फ्रांसिस नेपियर के नाम पर रखा गया है, इन्होने ही 19वीं शताब्दी में पहली बार जमैका में इस घास की शुरुआत की थी।
इसलिए, नेपियर बाजरा हरा चारा एक विशिष्ट प्रकार की घास नहीं है, बल्कि दो अलग-अलग घास प्रजातियों – नेपियर घास और बाजरा – का एक संयोजन है, जिसका उपयोग चारा उत्पादन के लिए किया जाता है। मिश्रण का उ पयोग अक्सर पशु आहार के पोषण मूल्य और स्वादिष्टता को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़े:

क्या सरसों के भाव में फिर आएगा उछाल देखे सरसों स्पेशल तेजी मंदी रिपोर्ट 2023

सरसों दैनिक बाजार रिपोर्ट देखे सरसों के बाजार मे कल क्या कुछ रहा

मवेशियों को नेपियर बाजरा हरा चारा खिलाने के फायदे

उच्च पोषण मूल्य: नेपियर बाजरा घास प्रोटीन, फाइबर और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर है, जो इसे पशुधन के लिए पोषण का एक उत्कृष्ट स्रोत बनाती है।

बेहतर पाचन: नेपियर बाजरा घास में फाइबर सामग्री जानवरों के पाचन में सुधार करने में मदद कर सकती है, जिससे बेहतर पोषक तत्व अवशोषण और समग्र स्वास्थ्य हो सकता है।

दूध और मांस में वृद्धि: दोस्तों पशुओं को नेपियर बाजरा घास खिलाने से पशु का दूध भी बढ़ता है और मांस में भी वृद्धि होती है, क्योंकि यह घास पोषण की दृष्टि से पशुओ के लिए काफी बेहतर है।

लागत प्रभावी: नेपियर बाजरा घास को उगाना और रखरखाव करना अपेक्षाकृत आसान है, जो इसे पशुपालकों के लिए लागत प्रभावी चारा विकल्प बनाता है।

सूखा-सहिष्णु: नेपियर घास एक कम पानी में उगने वाली फसल है जिसका यह फायदा होता है कि यह कम जल वाले या सिमित जल संसाधन वाले इलाको में भी आसानी से उगाई जा सकती है।
मृदा संरक्षण: नेपियर बाजरा घास मिट्टी के कटाव को रोकने और मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार करने में भी मदद कर सकती है, क्योंकि घास की व्यापक जड़ प्रणाली मिट्टी पर अपनी पकड़ बनाये रखती है और मिटटी की गुणवत्ता में भी सुधार करती है।

BREAKING NEWS : किसान ने गौशाला में दान दी 1 करोड़ की जमीन देखे पूरी खबर

बाजरा नेपियर के लिए भूमि और उसकी तैयारी

बाजरा नेपियर घास एक ऐसी चारा फसल है जिसको आमतौर पर पशुओं के चारे के रूप में खिलने के लिए उगाया जाता है। बाजरा नेपियर घास को उगाने के लिए क्या करे कुछ चरण इस प्रकार हैं:

मृदा परीक्षण: बाजरा नेपियर घास सहित किसी भी फसल को बोने से पहले मिट्टी का परीक्षण आवश्यक है। मृदा परीक्षण मिट्टी के पीएच स्तर, पोषक तत्व सामग्री और अन्य आवश्यक मापदंडों को निर्धारित कर तैयार करे ताकी मिटटी को तैयार किया जा सके।

भूमि का चुनाव: बाजरा नेपियर घास के लिए ph का स्तर 5.5 और 7.5 के बिच होने के साथ अच्छी जल वाली मिट्टी में अच्छी तरह से बढ़ती है। इसके अलावा इसकी बिजी ऐसे स्थान पर की जनि चाहिए जहाँ अछि धुप के साथ अछि जल निकासी व्यवस्था हो।

भूमि की साफ़ सफ़ाई: बिजी करने से पहले भूमि को खरपतवार मलबे से साफ़ करें जिससे बिजी अच्छे तरीके से हो सके।

जुताई और हैरोइंग: एक अच्छी बीज क्यारी तैयार करने के लिए भूमि को लगभग 15 से 20 सेमी की गहराई तक अच्छी तरह से जोताई करें और हैरो चलाएँ।

उर्वरक: बाजरा नेपियर घास को बढ़ने के लिए पर्याप्त पोषक तत्वों की जरुरत होती है। इसलिए समय पर बाजरा घास में जरुरत के अनुसार पोषक तत्व जरुर डाले।

रोपण: भूमि तैयार करने के बाद,उर्वरक डालकर बाजरा नेपियर घास के बीजों को लगभग 50-60 सेमी की दूरी पर बोये और पंक्तियों की गहराइ लगभग 1-2 सेमी रखे। बिजी करने के तुरंत बाद पानी दें.

खरपतवार नियंत्रण: रोपण के बाद, बाजरा को पोषक तत्वों और सूरज की रोशनी के लिए नेपियर घास के साथ प्रतिस्पर्धा करने से रोकने के लिए खरपतवारों को नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है। फसल की अच्छी वृद्धि के लिए समय समय पर निराई-गुड़ाई करते रहे।

ग्वार का रेट 8 जुलाई सभी मंडियों में ग्वार का भाव में तेजी या गिरावट देखे

सरसों के रेट 8 जुलाई सरसों की आवक घटी जानिए कहाँ रही तेजी आज के सरसों के भाव सरसों तेल खल रेट

आज का गेंहू का ताजा भाव देखे देशभर की मंडियो में आज का ताजा भाव क्या रहा है

उचित बुआई का समय

अगर आपके पास सिंचाई की उचित व्यवस्था है तो आप इसे किसी भी समय लगा सकते हैं। इसे बीज के साथ-साथ कलमों द्वारा भी आसानी से उगाया जा सकता है। लेकिन कुछ लोग इसे बरसात के मौसम में उगाना उचित मानते हैं। यह वर्षा के पानी से तेजी से बढ़ता है। तथा वर्षा के कारण सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है।

बुआई विधि

यदि हम वार्प कटिंग लगाना चाहते हैं तो पेन 3 माह पुराना होना चाहिए। कटिंग लेते समय आपको दो गांठों की कटिंग लेनी है. कलमों को 2 से 3 इंच तक जमीन में गाड़ दें और एक गांठ बाहर रखें तथा दूसरी को जमीन में गाड़ दें।

दोस्तों हमारी वेबसाइट पर आपको रोजाना ताजा मंडी भाव, फसलो की तेजी मंदी रिपोर्ट. वायदा बाजार भाव, खेती बाड़ी समाचार, मौसम जानकारी और खेती बाड़ी से जुडी सभी जानकारियां उपलब्ध करवाई जाती है। साथियों व्यापार अपने विवेक से करे एवम किसी भी प्रकार का निवेश करने से पहले एक बार आंकड़े जरुर चेक करे। facebook और YOUTUBE पर हमसे जुड़ने के लिए सर्च करे FARMING XPERT