WhatsApp Channel Join Now

क्या सरकार होगी इन 3 फसलो की खरीद के लिए विवश – mandi update 2023

mandi update 2023 – नमसकार किसान साथियो आज की इस पोस्ट में जानेगे बाजार और सरकार की रणनीति क्या सरकार फसलो की खरीद करेगी विवश हो कर जानेगे सम्पूर्ण चाल –

महत्वपूर्ण रबी उत्पाक राज्यों में कीमतों के उतार-चढ़ाव से सरकार एवं किसान दुविधा में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ जैसी राजस्थान राज्यों में एक साल के अंदर विधानसभा का चुनाव होने वाला है। मालूम हो कि इन प्रांतों में गेहूं, चना एवं सरसों का उत्पादन बड़े पैमाने पर होता है जबकि इसका भाव घटकर काफी नीचे आ गया है। इससे केन्द्र सरकार की दुविधा बढ़ गई है। यदि इन जिंसों का भाव ऊंचा रहा तो महंगाई बढ़ेगी और आम उपभोक्ताओं की कठिनाई होगी। दूसरी ओर यदि कीमतों को घटाने का प्रयास किया गया तो किसानों की नाराजगी बढ़ सकती है।

mandi update 2023
mandi update 2023

यह भी जाने – आज का ताजा अनाज मंडी भाव | वायदा बाजार भाव रिपोर्ट | कितना और गेहू उतारेगी सरकार खुले बाजार में | बचपन में हुई पिता की मौत बर्तन तक धोये अब खेती से लाखो की कमाई | सोयाबीन का बाजार और गर्म होगा

सरकार को बनानी होगी कुछ अलग और बड़ी रणनीति – mandi update 2023

सरकार को ऐसी रणनीति बनानी होगी जिससे सभी सम्बद्ध पक्षों के हितों के बीच संतुलन बना रहे। अगले कुछ सप्ताहों के दौरान देश के उत्तरी एवं मध्यवर्ती राज्यों की थोक मंडियों में इन तीनों प्रमुख रबी फसलों- गेहूं, चना तथा सरसों के नए माल की आपूर्ति तेजी से बढ़ने की उम्मीद है।

इसकी कीमतों में आने वाली तेजीमंदी आगामी महीनों में खाद्य महंगाई की दिशा निर्धारित करने वाली होगी और ग्रामीण क्षेत्र की अर्थ व्यवस्था को भी काफी हद तक प्रभावित करेगी। राजस्थान सरसों का सबसे प्रमुख उत्पादक एवंप्रान्त है जबकि वहां गेहूं एवं चना का भी विशाल उत्पादन होता है। इसी तरह मध्य प्रदेश चना के उत्पादन में पहले, गेहूं में दूसरे तथा सरसों के उत्पादन में तीसरे नम्बर पर रहता है।

छत्तीसगढ़ में भी चना एवं सरसों की अच्छी पैदावार होती है। हालांकि तीनों प्रांतों में सरकारें किसानों को खुश रखने का हर संभव प्रयास कर रही है लेकिन अभी भी आगे की राह कठिन है। यदि किसानों को रबी फसलों के लिए आकर्षक वापसी सुनिश्चित करने का सफल प्रयास किया गया तो सत्ता पक्ष को फायदा सकता हो है।

छत्तीसगढ़ में इस बार धान की सरकारी खरीद बढ़कर नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई। गेहूं एवं आटा का भाव घटाने के लिए सरकार ने काफी देर से कदम उठाया। अब बाजार ऐसे समय में नरम पड़ रहा है जब गेहूं की नई फसल आने वाली है। सरसों का दाम घटकर समर्थन मूल्य आसपास आ गया है जबकि चना का भाव पहले से ही समर्थन मूल्य से नीचे चल रहा है। सरकार को इन तीनों जिंसों की भारी खरीद करने के लिए विवश होना पड़ेगा। लेकिन वह समर्थन मूल्य पर ही इसकी खरीद करेगी।

नैफेड द्वारा बड़ी मात्रा में चना रबी 2022 व मूंग बिक्री के टेंडर जारी –

नई खरीद शुरू होने से पहले अधिक से अधिक मात्रा में नैफेड चना बेचना चाहती है। ( mandi update 2023 )

गेहूँ सरकार कर सकती है 20 लाख टन अतिरिक्त OMSS की घोषणा सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार OMSS के तहत 30 लाख टन बिक्री के अतिरिक्त 20 लाख टन गेहूं बिक्री की घोषणा कर सकती है। यानि इस स्कीम के तहत 50 लाख टन बिक्री कोटा पहुंच सकता है। 25 जनवरी को 30 लाख टन बिक्री की घोषणा की गई थी। यह बिक्री FCI द्वारा मिलर्स, टेडर्स/ बल्क बायर्स को की जाएगी। यह खबर विश्वशनीय सूत्रों के हवाले से मिली है, परन्तु सर्कुलर का करें इंतज़ार।

मार्कफेड ने केनेरीज़ डिपार्टमेंट के लिए मक्का खरीद टेंडर जारी किये, यह टेंडर 1 मार्च 2023 को 12.30 बजे खोला जायेगा तथा 2 मार्च 2023 को 11 बजे बंद होगा। 21 फरवरी 2022 इंडोनेशिया में मक्का की बढ़ती कीमतों को देख चारे के रूप में फीड क्वालिटी गेहूं की बढ़ी डिमांड इंडोनेशिया में जनवरी से अब तक मक्का की घरेलू कीमतें 10% तक बढ़ी। (mandi update 2023 )

अपील – किसान साथियो व्यापार अपने विवेक से करे | हमारा उदेश्य सिर्फ किसानो तक जानकारी पहुँचाना है |