WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

कैबिनेट मंत्री रामेश्वर डूडी जी ने मोदी जी से कर दी किसानों के लिए बड़ी मांग जिसके चलते चर्चा में डूडी जानिए क्या है मांग

रामेश्वर डूडी । कैबिनेट मंत्री रामेश्वर लाल डूडी ! किसान मासिक पेंशन योजना।

रामेश्वर लाल डूडी

किसान मित्रों फिलहाल सोशल मीडिया पर राजस्थान के केबिनेट मंत्री रामेश्वर लाल जी डूडी काफी चर्चा में बने हुए हैं ! हालांकि रामेश्वर डूडी हमेशा से छात्र हितों ,किसान हित यानी आम जनता के हित में सदैव सबसे आगे तत्पर रहे हैं !

अभी एक बड़ी मांग उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी से की है ! उन्होंने किसान हित के लिए एक और बड़ी और बहुत ही महत्वपूर्ण योजना के संचालन के लिए मांग की है ! उन्होंने अपने लेटर पैड पर लिखें भावुक और दमदार शब्दों से मोदी जी का ध्यान देश के किसानों की ओर खींचने की कोशिश की है ! इस पोस्ट में जानेंगे आखिर रामेश्वर लाल डूडी जी ने ! ऐसी क्या मांग रखी कि ! राजस्थान प्रदेश के साथ-साथ अन्य राज्य के किसान भी रामेश्वर लाल डूडी के इस कदम को सरहानीय बता रहे हैं!

आपकी जानकारी के लिए बता दे ! रामेश्वर जी ने देश के किसानों के लिए एक निर्धारित मासिक पेंशन योजना चलाने की सिफारिश की है ! जिससे देश के लघु, सीमांत सभी वर्ग के किसानों को दैनिक मूलभूत सुविधाओं की पूर्ति में राहत मिले !

रामेश्वर लाल डूडी (कैबिनेट मंत्री राजस्थान) ने कुछ यूं लिखा अपना लैटर पैड –

आदरणीय श्री नरेंद्र दामोदरदास जी मोदी साहब मैं माननीय का ध्यान राष्ट्र के किसानों के लिए मासिक पेंशन लागू कर उन्हें सामाजिक सुरक्षा के दायरे में लाने की ओर आकृष्ट करना चाहूंगा ! जैसा कि राज्य सरकारों द्वारा सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना , वृद्धावस्था पेंशन योजना, एकता नारी सम्मान पेंशन योजना ,विशेष योग्यजन पेंशन योजना ! तथा लघु और सीमांत कृषक वर्ग जन पेंशन योजना ! जैसी योजनाओं के माध्यम से राज्य के प्रत्येक वर्ग ,को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने का महत्वपूर्ण कार्य किया जा रहा है !

वर्तमान वित्तीय वर्ष 2022 23 मई राजस्थान सहित, अन्य राज्यों की सरकारों ने अपने अधिकारियों कर्मचारियों के लिए ,पुरानी पेंशन योजना लागू कर ! कर्मचारी वर्ग को सामाजिक सुरक्षा के दायरे में लाने का ऐतिहासिक कार्य किया है ! इसी तर्ज पर भारत सरकार देश के किसान को आर्थिक एवं सामाजिक सुरक्षा के दायरे में लाने हेतु ! प्रत्येक भूमि धारक व भूमिहीन किसान के लिए एक निर्धारित निश्चित मासिक पेंशन का प्रावधान करती है ! तो यह कदम कृषक हित में मील का पत्थर साबित होगा

कृषि कार्य एक अत्यंत अनिश्चिताओ से परिपूर्ण गतिविधि है ! किसान को पूरी मेहनत के बावजूद भी एक निश्चित निर्धारित आएगी गारंटी नहीं होती ! क्योंकि अतिवृष्टि ओलावृष्टि शीत लहर और लो जैसी विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक आपदाएं किसान की साल भर की मेहनत पर पल भर में पानी फेर देती है ! हाल ही के वर्षों में जलवायु परिवर्तन व भूमंडलीकरण के चलते कृषि क्षेत्र में अनिश्चिताये और अधिक बढ़ गई है ! वर्ष 2021 22 में केंद्र सरकार द्वारा लोकसभा में बताए गए! आंकड़े के अनुसार नवंबर 2021 तक 50.40 लाख हेक्टेयर को तूफान, बाढ़ , भूस्खलन आदि से नुकसान हुआ था ! वर्ष 2020 में यह आंकड़ा 66 .50 लाख हेक्टेयर तथा वर्ष 2019 में 114.20 लाख हैक्टेयर था! वर्ष 2016 में 66.50 लाख हैक्टेयर में हुए कृषि क्षेत्र के नुकसान को 4052.72 करोड़ रुपया आंका गया था !

डूडी जी ने लेटर पैड में कृषि नुकसान, आत्महत्यो के आंकड़ों को भी शामिल किया है

वर्तमान में भारत सरकार की प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत ! भूमि धारक लघु और सीमांत कृषकों को प्रति वर्ष ₹6000 की राशि देने का प्रावधान रखा गया है ! जो कि ऊंट के मुंह में जीरे के बराबर है ! यह राशि वर्ष 2014 में रंगराजन समिति द्वारा अनुशंसा की गई बीपीएल रेखा से कम है ! राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय कि वर्ष 2021 में जारी रिपोर्ट के अनुसार, 50% कृषक परिवार औसतन 74121 रुपए के कर्ज में है ! जो कि वर्ष 2013 के मुकाबले 57% बढ़ गया है

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2017 से वर्ष 2021 के मध्य 53 हजार से अधिक कृषि और

माननीय से आग्रह पूर्वक निवेदन है कि उक्त चुनौतियों के दृष्टिगत राष्ट्र के किसान की नाजुक आर्थिक एवं सामाजिक स्थिति पर सहानुभूति विचार कर ! प्रत्येक भूमि धारक और भूमिहीन किसान के लिए न्यूनतम ₹3000 की मासिक पेंशन का प्रावधान करवा कर ! राष्ट्र के किसान के साथ न्याय कर अनुग्रहित करें !

खाद्य सुरक्षा में बड़ा बदलाव यहां क्लिक करें

रबी सीज़न 2022 में बुवाई आंकड़ा यहां क्लिक करें

ट्रैक्टर पर 3 लाख सब्सिडी यहां क्लिक करें

आपको डूडी जी की ये मांग कैसी लगी नीचे अपना कॉमेंट कर जरूर बताएं धन्यवाद जय जवान जय किसान राम राम

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी