WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

रामगंज में चौ-तरफ़ा हुआ धनिया : धनिये के रेट में उछाल आएगा या लुढ़केगा बाजार देखे खाश रिपोर्ट

धनिये के रेट  – रामगंज समेत प्रमुख उत्पादक क्षेत्रों की मंड़ियों में इन दिनों धनिए की इतनी आवक हो रही है कि इससे मंड़ियां अटी पड़ी हैं। हालत यह है कि जहां तक नजर जाए, वहां तक धनिया ही धनिया नजर आ रहा है। आवक की तुलना में बिक्री कमजोर बनी हुई है। आने वाले एक-दो दिनों में हाजिर में धनिया तेज होने के आसार नजर नही आ रहे हैं।

व्हाट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

समय-समय पर धनिए की तेजी-मंदी के सम्बन्ध में नवीनतम जानकारियां मिलती रहती हैं और आपको इससे लाभ भी होता है। प्रमुख उत्पादक राज्यों की रामगंज समेत करीब-करीब सभी बड़ी मंड़ियों में इन दिनों धनिए आवक का भारी दबाव बना हुआ है। मंड़ियों में ऐसी स्थिति बनी हुई है कि जहां तक नजर दौड़ाओ वहीं तक धनिया ही धनिया दिखाई दे रहा है।

ररामगंज मंडी में धनिया की आवक और रिपोर्ट

रामगंज मंड़ी में इन दिनों धनिए की करीब 40-50 हजार बोरियों तथा बारां में करीब 6-7 हजार बोरियों की आवक होने की जानकारी मिली। रामगंज में आवक की तुलना में धनिए की करीब 20-25 हजार बोरियों की बिक्री हो पा रही है। इससे पूर्व वर्तमान मार्च महीने के आरंभ में एक औद्योगिक एवं व्यापारिक कांफ्रेंस हुई थी। इस कांफ्रेंस में पिछले सीजन की तुलना में इस बार देश में धनिए के उत्पादन में कमी आने का अनुमान व्यक्त किया गया था।

यह अनुमान सार्वजनिक होने के बाद इस प्रमुख किराना जिंस की थोक कीमत में उल्लेखनीय तेजी आई थी लेकिन आवक बढ़ने के बाद फिर से मंदी का रुख बनने लगा है। इतना ही नहीं, चालू महीने के आरंभ में मौसम में हुए बदलाव का भी थोक कीमत पर असर हो रहा है। दूसरी ओर, प्रमुख उत्पादक क्षेत्रों की मंड़ियों में नए धनिए की आवक का पर्याप्त दबाव बन गया है।

बुवाई का रकबा भी बढ़ा

व्यापारिक सूत्रों से प्राप्त जानकारी पर यदि विश्वास किया जाए तो इस बार मध्य प्रदेश में धनिए की बुआई तुलनात्मक रूप से अधिक हुई है। हालांकि राजस्थान में यह चालू सीजन के बराबर ही होने का अनुमान व्यक्त किया गया है जबकि गुजरात में बुआई उल्लेखनीय रूप से पिछड़ी हुई है।

इस बार व्यापारियों के बीच धनिए की नई फसल की संभावित बिजाई को लेकर कोई एकराय नहीं बन पा रही है। एक वर्ग का मानना है कि इस बार धनिए की बिजाई में कमी आ सकती है तो दूसरा वर्ग ऐसा नहीं मानता है। बहरहाल, किसानों की भारी बिकवाली होने से मध्य प्रदेश और राजस्थान जैसे प्रमुख उत्पादक राज्यों में इस प्रमुख किराना जिंस की भारी आवक हो रही है।

धनिये का भाव देशभर की प्रमुख मंडियो में (धनिये के रेट  )

राजस्थान की रामगंज मंड़ी में इन दिनों धनिया बादामी तथा ईगल 500-500 रुपए  होकर फिलहाल 6200/6400 रुपए और ईगल 6500/7000 रुपए प्रति क्विंटल पर बना हुआ है। बारां मंड़ी में इनकी कीमत क्रमश: 6100/6300 रुपए और 6500/6900 रुपए प्रति क्विंटल पर बनी होने की सूचना मिली। हाल ही में इसमें करीब 300-500 रुपए की मंदी आई है।

इधर, राजधानी स्थित थोक किराना बाजार में धनिया बादामी हाल ही में 300 रुपए मंदा होकर फिलहाल 8200/8400 रुपए प्रति क्विंटल के स्तर पर बना हुआ है। इससे पूर्व इसमें 500 रुपए की तेजी आई थी। मसाला बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार वर्तमान वित्त वर्ष 2023-24 के आरंभिक नौ महीनों में देश से 750.89 करोड़ रुपए कीमत के 87,531.24 टन धनिए का निर्यात हुआ है।

एक वर्ष पूर्व की आलोच्य अवधि में इसकी केवल 32,449.43 टन मात्रा का निर्यात हुआ था और इससे 448.88 करोड़ रुपए की आय हुई थी। आगामी दिनों में धनिए में तेजी के आसार नहीं दिख रहे हैं।

किसान साथियो व्यापार अपने विवेक से करे . हमारा उदेश्य सिर्फ किसानो तक जानकारी पहुचाना है  ,किसान साथियो रोजाना मंडी भाव ,  खेत खलिहान , मौसम जानकारी ,खेती बाड़ी समाचार ,मनोरंजन ,खबरे , खेल जगत , फसलो की तेजी मंदी रिपोर्ट उक्त सभी प्रकार की जानकारी जानने  के लिए विजिट करे farming xpert की इस वेबसाइट पर , सबसे पहले सबसे स्टिक जानकारी

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी