WhatsApp Channel Join Now

ज्वार की टॉप 7 किस्मों की बुवाई कर के 50 से 60 क्विंटल तक पैदावार पाए;top 7 varieties of jawar

नमस्कार किसान साथियो आज की पोस्ट में जानेगे ज्वार की टॉप 7 किस्मों के बारे में जिन्हें लगाकर आप अच्छी उपज ज्वर की ले सकते है । किसान मित्रो जैसा की आप सब जानते है ज्वर एक ठंडी तासीर वाला अनाज है ।जिसे की गर्मी के सीजन के अंदर लोग खाना पसंद करते है वही काफी किसान साथी अपने पशुओ को ज्वार डालते है । गेंहू के मुकाबले ज्वार के आटे में अधिक पोषक तत्व पाए जाते है जैसे – केल्सियम ,पोटेसियम , विटामिन , आयरन आदि ।

ज्वार की टॉप 7 किस्मों
ज्वार की टॉप 7 किस्मों

 यही सबसे बड़ा कारण है की ज्वार की बाजार में मांग अच्छी बनी रहती है । किसान साथियो अगर आप भी ज्वार की उन्नत किस्मो के साथ ज्वार की खेती करते है तो एक बेह्तर उपज और अच्छा खाशा मुनाफा आप कम सकते है । ज्वार के पकने के समय की बात की जाये तो ज्वार 3 से 4 महीनो में पककर तयार हो जाती है । किसान साथियो खेती चाहे कौनसी भी हो बिज का चुनाव सबसे अहम् पहलु माना जाता है आइये जानते है ज्वार की टॉप उन्नत किस्मो के बारे में  

ज्वार की टॉप 7 उन्नत किस्मे ; top 7 varieties of jowar

1 . सीएसएच 16 ; यह ज्वार की सबसे उन्नत किस्मो के अंतर्गत आती है ।किसान मित्रो यह किस्म बहुउदेशीय हायब्रिड किस्म है जिसे किसान साथी ज्वार उत्पादन के साथ साथ चारा उत्पादन के लिए भी लगा सकते है । यह किसन मात्र 105 से 110 दिनों के समय में पककर तैयार हो जाती है । इसकी उपज की बात की जाए तो यह किस्म 40 से 52 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक की पैदावार देने का काम करती है । वहीचारा की उपज लगभग 200 से 220 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक देती है । 1996 के अंदर इस किस्म को विकसित किया गया था ।

तेल मिलो की मांग से सरसों की कीमतों में आई तेजी

2. सीएसवी 15 ; यह ज्वार की टॉप उन्नत किस्मो में दुसरे स्थान पर आती है यह किस्म 95 से 105 दिनों में तैयार हो जाती है । इसकी ऊंचाई 230 से 234 cm तक रहती है । इसकी पैदावार की बात करे तो यह किस्म 35 से 40 क्विन्न्तल तक कि उप्ज देती है । सन्न 1994 में इसे किसानो के लिए विकसित किया गया था ।

3. प्रताप ज्वार – 1430 ; उंचच तापमान और कम पानी वाले स्थानों के लिउ ज्वार की इस किस्म को सर्वोपयुक्त माना जाता है ।इस किस्म में रोग प्रतिरोधक क्षमता आधिक पायी जाती है । प्रताप ज्वार की यह किस्म 30 से 35 क्विंटल तक की पैदावार देती है । ईसे सन 2004 में जारी किया गया था ।

सर्वाधिक प्रोटीन वाली ज्वार की किस्म

4. सीएसवी 23 ; इस किसम में सर्वाधिक प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है यही कारण है की पशुपालक भाई इस किस्म का चुनाव सर्वाधिक करते है । यह किस्म 110 से 115 दिनों में पक्क्कर तैयार हो जाती है । ये किस्म उपज थोड़ी कम जरुर देती है इसकी उपज की बात की जाये तो यह किस्म 25 से 30 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की उपज देती है । लेकिन इसमें 100 ग्राम वजन ज्वार के दानो में 7.50 ग्राम तक प्रोटीन पाया जाता है ।

ऐसा रहेगा ग्वार भाव भविष्य 2023 ;जाने ग्वार के भाव की ताजा रिपोर्ट + Gawar ka bhav today

गेहूं में जबरदस्त उछाल? क्या बढ़ेंगे गेहूं के भाव? गेहूं तेजी मंदी रिपोर्ट गेहूं भविष्य 2023

हरे चारे के लिए टॉप ज्वर की उन्नत किस्मे

5. एस.एस.जी 59-3 ; इस किस्म को किसनो की हरे चारे की जरूरत को पूरा करने के उदेश्य से विकसित किया गया था । इस किस्म से सर्वाधिक हरे चारे की उपज प्राप्त होती है । इसकी कटाई मात्र 55 से 60 दिनों में आप शुरू कर सकते है । इसके आप 2 से 3 बढ़ हरा चारा काट सकते है । सन १९78 में इसे जारी किया गया था ।

6. एम.पी चरी  हरे चारे के लिए भी यह किस्म उन्नत किस्मो के अंतर्गत आती है । इसकी कटाई भी 55 से 60 दिन बाद आप शुरू कर सकते है । औसतन हरे चारे की उपज इस किस्म से आप 350 से 400 कक्विंटल प्रति हेक्टेयर ले सकते है ।

7. राजस्थान चरी 2  ; इस किस्म को सन १९84 के अंदर विकसित किया गया था । कम पानी वाले इलाको के लिए यह सबसे अच्छी मानी जाती है । इस से आप हरा चारा की उपज 300 से ३५० क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक पैदावार ले सकते है ।

किसान साथियो रोजाना देशभर की अनाज मंडियो के ताजा भाव , मौसम जानकरी , सरकारी योजनाओ की जानकारी आदि पाने के लिए विजिट करे आपकी अपनी वेबसाइट farming xpert पर