WhatsApp Channel Join Now

दलहन फसलो में तेजी कब आएगी देखे मटर चना मुंग मसूर काबुली चना उड़द राजमा तुवर सभी की ताजा रिपोर्ट

नमस्कार किसान साथियो दलहन फसलो में तेजी कब आएगी जानेगे आज की इस पोस्ट के अंदर , सभी दलहन फसलो के बाजार की ताजा समीक्षा आज की इस पोस्ट के अंदर दि गयी है . किसान साथियो पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े ताकि बाजार को अछे से समझ सके सभी दालो की रिपोर्ट निचे प्रदान कि गयी है . दलहन फसलो में तेजी कब आएगी

मटर का रेट आज – समीक्षा (अभी कुछ दिनों तक स्थिर)

हालांकि विदेशी मटर की आवक नहीं है और देशी मटर का उत्पादन जरूर कम हुआ है, लेकिन पिछले दिनों स्टॉकिस्टों ने खूब माल खरीदा है और ललितपुर-झांसी लाइन से माल की रेक उपभोक्ता मंडियों में पहुंच चुकी है। एक बार सरकारी घबराहट के कारण मटर का कारोबार कम हो गया है, ऐसे में कुछ दिनों तक सुस्ती रहेगी, लेकिन मंडे का कारोबार बिल्कुल नहीं करना चाहिए। आगे चलकर मटर का बाजार और तेज होगा। कुछ बाहरी व्यापार करने वाले व्यापारियों का माल अभी बिकना बाकी है।

गेंहू में बिकवाली का दवाब देखे गेंहू मक्का और बाजरा की साप्ताहिक तेजी मंदी रिपोर्ट कौनसी फसल कब लेगी उछाल

खाद्य तेल रिपोर्ट 2023 ,जाने सरसों बिनोला सोया देसी घी राइस तेलों में तेजी मंदी

चना का भाव कब बढ़ेगा – समीक्षा (रुकावटों के साथ अच्छी वृद्धि)

अतरराष्ट्रीय बाजारों में काबली चने के दाम इंदौर भोपाल के साथ-साथ कर्नाटक की मंडियों में भी ऊंचे चल रहे हैं। काबुली चना जो पिछले 7-8 दिनों से महाराष्ट्र में 102/103 रुपये पर चल रहा था, उत्तर भारत में ग्राहकी कमजोर होने से 104 रुपये हो गया। फिलहाल कमजोर ग्राहकी के चलते अगले 2-4 दिनों में बाजार में 2/3 रुपए की बढ़ोतरी हो सकती है। उत्पादक बाजारों से तेजी से खबरें आ रही हैं, जिसके कारण माल की लोडिंग कम है.

राजमा का रेट : समीक्षा (ऑफ सीजन के कारण खराब नहीं)

भूटानी और गन्ने का सामान मंडियों में बहुतायत में उपलब्ध है, लेकिन ऑफ सीजन के कारण इनके दाम भी बढ़ गए हैं। जो माल यहां नीचे 6500 रुपये में बिक रहा था, उसकी कीमत 6900 रुपये तक बोलने लगी है और अच्छे माल की कीमत 7200 रुपये प्रति क्विंटल तक है. चीन अच्छी वस्तु नहीं है, जिसके कारण मुंबई में इसकी कीमत 12400/12500 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है. वे हल्के माल के रंग के अनुसार बोल रहे हैं, उन्हें ब्राजील से कंटेनर लोड करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। अन्य वस्तुओं में भी बाजार मजबूत हो गए हैं और किसी भी मंडी में स्टॉक नहीं है, ऐसे में जड़ धीमी नहीं है

भारी बारिश से डूबा रेलवे ट्रैक 5 संभागों में जोरदार बारिश का अलर्ट जारी – Imd alert

धान की फसल में लगने वाले रोगों से ऐसे करे बंचाव ,धान की फसल में लगाने वाले किट और उपचार

देसी चना का भाव – समीक्षा (अभी बहुत कम नहीं)

फिलहाल सरकारी पोर्टल और सेंट्रल पूल के स्टॉक पर लोडिंग के डर से देसी चने में स्टॉकिस्टों की खरीदारी पूरी तरह से बंद हो गई है। यही कारण है कि जिन व्यापारियों ने पिछले दिनों के भाव पर माल खरीदा था, वे कन्नी काटने में लगे हुए हैं। दूसरी ओर, उत्पादक मंडियों में हल्के और भारी माल की आवक भी बढ़ गई है, जिसके कारण लॉरेंस रोड पर राजस्थानी चने का भाव 5,100 रुपये प्रति क्विंटल पर सुस्त हो गया है. हमारा मानना है कि मंडियों में आवक का कोई दबाव नहीं है, लेकिन सरकार ने 18 लाख मीट्रिक टन माल की खरीद भी कर ली है. पिछले साल सरकारी बिकवाली को देखते हुए स्टॉकिस्ट घबराए हुए हैं, इसलिए तेजी में कुछ समय लगेगा।

तुवर का रेट – समीक्षा (शॉर्ट्स में और तेजी की संभावना)

पाइपलाइन में तुवर का कोई स्टॉक नहीं है, दूसरी ओर आयात सौदे बहुत महंगे हो रहे हैं। इधर, दाल मिलों की मांग थोड़ी कम होते ही बाजार में दाल फिर 103 रुपये प्रति किलो हो गयी. नीचे में एक हफ्ते पहले 96 रुपये का कारोबार बचा था. गौरतलब है कि पिछले माह तुवर 200 रुपए तक बिकी थी। 109 रुपये प्रति किलो, जिससे दालों के दाम भी सिर चढ़कर बोलने लगे. सभी कच्चे और तैयार माल में उपरोक्त भाव पर मुनाफावसूली होने से बाजार थोड़ा उदास था और खरीददार भी कमजोर थे, लेकिन पीछे से पाइपलाइन में माल की कमी और चेन्नई से 106 रुपये गिरने को देखते हुए बाजार ने शुरुआत की है। यहां भी 5 रुपये प्रति किलोग्राम की कीमत फिर तेज लगती है।

मूंग का भाव कब बढ़ेगा -समीक्षा (केवल व्यावसायिक आवश्यकता)

मूंग की आवक एमपी, यूपी, बिहार, झारखंड चारों ओर से गुणवत्ता के अनुसार हो रही है। इसके बावजूद सबसे सस्ता होने के कारण कानपुर लाइन की डिमांड अच्छी चल रही है, जिसके कारण इसकी कीमत फिर से 400 रुपये बढ़कर 7700 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है, आज की लोडिंग में माल तीन प्रतिशत खराब डस्ट कंडीशन में उपलब्ध है। इसलिए मौजूदा भाव पर सिर्फ जरूरतमंद कारोबार ही करना चाहिए, क्योंकि सभी फसलें उत्पादक मंडियों में फंसी हुई हैं और ऊंची कीमतें देखकर किसानों ने ज्यादा बुआई कर ली है, जिससे कच्ची मंडियों में स्टॉक ज्यादा है. सभी उत्पादक राज्यों में बुआई अच्छी हुई। यूपी में भी किसानों ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है. उधर, खरगोन होशंगाबाद लाइन के माल का दबाव बढ़ गया है, बिहार और यूपी से मूंग की आवक भी बढ़ गई है, जिससे तेजी थम जाएगी।

मसूर की तेजी मंडी रिपोर्ट (मंडियों में आवक का दबाव नहीं)

वैसे तो मसूर की बुआई सभी जगह अधिक हुई, लेकिन फसल पकने के समय खराब मौसम के कारण बिहार-पूर्वी यूपी में बोयी जाने वाली मसूर की प्रति हेक्टेयर उत्पादकता भी कम हो गयी. वहीं, कोटा-बूंदी लाइन में ज्यादा माल नहीं निकल रहा है, जिससे बारीक दाल की कमी हो गई है. मुंगावली, गंजबासौदा, सागर, भोपाल लाइन की मंडियों में मोटी मसूर की आवक टूट गई है, जिसे देखते हुए यहां से बाजार कम होने वाला नहीं है। यहां बिल्टी में मसूर 5970/5975 रुपये बिक रही है, इसमें कभी भी 200 रुपये का उछाल आएगा।

उड़द का भाव -समीक्षा (करेक्शन के बाद बढ़ेगी)

उड़द में वर्तमान वाले भाव पर दाल मिलों की पकड़ मजबूत हो गई है, क्योंकि दिल्ली में उड़द एस क्यू 8850 रुपए प्रति क्विंटल मिल रही है, जबकि चेन्नई से आज की तारीख में माल मंगाने पर 9000 रुपए से कम नहीं पड़ रही है तथा चेन्नई में रंगून से माल मंगाने पर 9250 रुपए के पड़ते में व्यापार हो रहा है, इन परिस्थितियों में ये भाव केवल सरकार के पैनिक से आया है, आगे चलकर बाजार तेज ही रहेगा। इन भावों में व्यापार करने में कोई जोखिम नहीं है।

दलहन फसलो में तेजी कब आएगी . दलहन फसलो की रिपोर्ट 2023