WhatsApp Channel Join Now

market report ; ये फ़सल करेगी चांदी & बिजाई रिर्पोट

नमस्कार किसान मित्रो। market report । फसलों की तेज़ी मंदी रिपोर्ट। फ़सल समीक्षा ! और बिजाई रकबा रिर्पोट के बारे में जानेंगे इस पोस्ट में सम्पूर्ण जानकारी !

फसलों की तेजी मंदी रिर्पोट (समीक्षा )

सोयाबीन तेज़ी मंदी समीक्षा

बढ़ी हुई कीमत पर सोयाबीन की बिक्री सुस्त पड़ने लगी है ! यही वजह है कि जलगांव में प्लांटों की लिवाली सुस्त पड़ने से सोयाबीन 5450 रुपए प्रति क्विंटल के पूर्वस्तर पर ही टिका रहा! हाल ही में इसमें 50 रुपए की तेजी आई थी। निवेशकों की मजबूत लिवाली से शिकागो के सक्रिय तिमाही सोया तेल वायदा में 28 सेंट प्रति पौंड और केएलसीई के सक्रिय तिमाही पाम तेल वायदा में 147 रिंगिट प्रति टन की तेजी आने की रिपोर्ट मिली। इससे बाजार की धारणा प्रभावित हो सकती है। आगामी एक-दो दिनों में हाजिर में सोयाबीन थोड़ा-बहुत बढ़ सकता है!

सरसों तेज़ी मंदी समीक्षा

तेल का उठाव न होने से मिलों की लिवाली कमजोर होना, एवं स्टाकिस्टों की बिकवाली आने एवं होने से लारेंस रोड पर सरसों के भाव 25 रुपए बढ़कर 6475/6500 रुपये प्रति क्विंटल हो गए ! नजफगढ़ मंडी में लूज़ में इसके भाव 6000/6100 रूपये प्रति कुंतल बोले गए! जयपुर में 42 प्रतिशत कंडीशन सरसों के भाव 6700 रूपये प्रति कुंतल बोले गए ! देश के विभिन्न मंडियां में सरसों की आवक 2.50 लाख बोरी के लगभग की रही! आपूर्ति व मांग को देखते हुए इसमें चार पांच दिन लंबी तेजी की सभावना नहीं है!

देसी घी तेज़ी मंदी : समीक्षा

दिसंबर महीने का पहला पखवाड़ा अपनी समाप्ति के कगार पर आ पहुंचा है ! इसके बाद भी दिन में सर्दी का नामोनिशान नहीं दिख रहा है ! इसकी वजह से यहां देसी घी में स्थिरता का वातावरण वा हुआ है! अतः यहां देसी घी 8075 रुपए के पूर्वेबंद स्तर पर ही बना हुआ है! मौसम विभाग ने अब जल्दी ही ठंड बढ़ने की संभावना व्यक्त की है! इससे बाजार की धारणा प्रभावित हो सकती है! आगामी एक-दो दिनों में हाजिर में देसी घी की सुस्ती टूट सकती है।

बिनौला खल तेज़ी मंदी समीक्षा

पशु आहार वालों की मांग कमजोर होने एवं आपूर्ति बढ़ने से बिनौला , खल के भाव 3200/3400 रूपये प्रति कुंटल पर सुस्त रहे अमरावती लाइन में इसके भाव 2900 रूपये प्रति क्विंटल बोले गए ! सटोरिया लिवाली से एनसीडीएक्स बिनौला खल वायदा में गिरावट रही! हालांकि पंजाब की मंडियों में बिकवाली घटने से बिनौले के भाव 3700/4000 रूपये प्रति कुंतल बोलें गए! बिनौले में मजबुती को देखते हुए इसमें गिरावट की गुंजाइश नहीं है।

अरंडी तेल तेज़ी मंदी समीक्षा

राजस्थान व गुजरात की मंडियों की बिकवाली कमजोर आने तथा ! औद्योगिक मांग निकलने से अरंडी तेल के भाव के भाव 100 रुपए बढ़कर 15400/15500 रूपये प्रति क्विंटल हो गये ! गुजरात के मंडी में इसके भाव 14900 रूपये प्रति विंटल बोले गए ! सटोरिया बिकवाली से अरंडी वायदे में मंदे का रूख रहा आपूर्ति व मांग को देखते हुए ! आने वाले दिनों में इसमें गिरावट की संभावना कम है , बाज़ार मजबूत रह सकता है!

market report ; रबी सीज़न में फसलों की बुवाई रिर्पोट

रबी बिजाई रिपोर्ट▪️मौजूदा रबी सीजन में रबी फसलों के तहत क्षेत्र में 15 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है! ▪️कृषि मंत्रालय के अनुसार 9 दिसंबर तक रबी फसलों की बुवाई का रकबा ! पिछले साल की इसी अवधि के 457.80 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 526.27 लाख हेक्टेयर हो गया है!

गेहूं▪️कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार सभी रबी फसलों के रकबे में वृद्धि देखने को मिली है! हालाँकि, उसमें सबसे बड़ा योगदान गेहूं का है! ▪️गेहूं का रकबा पिछले साल के 203.91 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 255.76 लाख हेक्टेयर हो गया है!

market report

तिलहन▪️गेहूं के बाद रकबे में सबसे अधिक वृद्धि तिलहन फसलों के रकबे में हुई है! ▪️तिलहन की खेती का रकबा वर्ष 2021-22 के 87.65 लाख हेक्टेयर, से 7.55 लाख हेक्टेयर बढ़कर इस साल 95.19 लाख हेक्टेयर हो गया है!

▪️तिलहन के रकबे में हुई 7.55 लाख हेक्टेयर की वृद्धि में से 7.17 लाख हेक्टेयर की वृद्धि ! अकेले रेपसीड और सरसों के रकबे में हुई है!

दलहन▪️दलहन का रकबा 3.30 लाख हेक्टेयर की वृद्धि के साथ 123.77 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 127.07 लाख हेक्टेयर हो गया !

▪️सभी दालों के रकबे में हुई 3.30 लाख हेक्टेयर , की वृद्धि में से 2.14 लाख हेक्टेयर की वृद्धि चने की फसल में हुई है!

मोटे अनाज▪️मोटे सह पोषक अनाजों की खेती के रकबे में 4.34 लाख हेक्टेयर की वृद्धि देखी गई ! वर्ष 2021-22 में 32.05 लाख हेक्टेयर की तुलना में इस वर्ष अब तक का कवरेज 36.39 लाख हेक्टेयर है!

आज का मंडी भाव जानने के लिए यहां क्लिक करें

खेती सामाचार जानने के लिए यहां क्लिक करें

अपील-किसान मित्रो व्यापार अपने विवेक से करें। हमारा उद्देश्य सिर्फ किसानो तक जानकारी पहुंचाना है !पोस्ट में दिए गए डाटा भारतीय एग्रीकल्चर विभाग से लिया गया है।