WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

मानसून 2024 बड़ी खुशखबरी समय से पहले देगा दस्तक अच्छी बारिश की आशा

मानसून 2024 : भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा है कि इस साल मॉनसून 19 मई को अंडमान द्वीप समूह तक पहुंच सकता है. IMD ने कहा कि अंडमान द्वीप समूह में मॉनसून की शुरुआत की सामान्य तारीख 22 मई थी, लेकिन मौसम विभाग का अनुमान है कि इस साल ऐसा होने की उम्मीद है. तय समय से तीन दिन पहले यानी 19 मई तक पहुंचें. मौसम विभाग ने कहा कि ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि जहां एक तरफ अल नीनो कमजोर हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ ला नीना की स्थिति सक्रिय हो रही है जो अच्छे मानसून के लिए अनुकूल है. इसके चलते मानसून के थोड़ा जल्दी आने की उम्मीद है।

अच्छी मानसून स्थिति 2024

आपको बता दें कि ला नीना के साथ-साथ हिंद महासागर डायपोल (आईओडी) स्थितियां भी इस साल अच्छे मानसून के लिए अनुकूल बन रही हैं। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस महीने की शुरुआत में सामान्य से अधिक बारिश की भविष्यवाणी की थी। आईएमडी से मिली ताजा जानकारी के मुताबिक अगले दो दिनों तक दक्षिणी राज्यों तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल में आंधी और बारिश जारी रहने की संभावना है. अनुमान लगाया जा रहा है कि 1 जून के आसपास मानसून केरल से लेकर 15 जुलाई तक पूरे देश में छा जाएगा.

इसे भी पढ़े –

Ncdex-Mcx Rates : देखे आज का वायदा बाजार भाव कौनसी फसल तेजी और मंदी के साथ खुली है

100 फीसदी से ज्यादा बारिश का अनुमान

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, 2024 का दक्षिण-पश्चिम मानसून 19 मई तक अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और बंगाल की खाड़ी के कुछ हिस्सों तक पहुंचने की संभावना है। आईएमडी ने भारतीय प्रायद्वीप में 100 प्रतिशत से अधिक मानसून वर्षा की भी भविष्यवाणी की है। आईएमडी के अनुसार, जून और सितंबर के बीच देश भर में मानसूनी बारिश “सामान्य से ऊपर” होने की संभावना है। आईएमडी पुणे के मुख्य अधिकारी अनुपम कश्यपी ने ‘इंडिया टुडे’ को बताया कि मानसून अपनी सामान्य तारीख 22 मई से पहले बंगाल की खाड़ी में आगे बढ़ेगा.

यह भी जाने –

जीरा और ईसबगोल में आज फिर तेजी का रुख रहा देखे देशभर की मंडियो में जीरा और ईसबगोल का भाव

19 मई को अंडमान निकोबार में दस्तक देगा मानसून

दक्षिण-पश्चिम मानसून के 19 मई से 22 मई तक अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में प्रवेश करने की उम्मीद है। इसके बाद यह 8 से 10 जून के बीच केरल पहुंचेगा। बंगाल की खाड़ी से देश के मैदानी इलाकों तक मानसून के पहुंचने के लिए स्थितियां अनुकूल हो गई हैं। इसलिए, उनका अनुमान है कि मानसून 19 मई तक भारतीय सीमा में प्रवेश कर जाएगा। भारतीय मौसम विभाग अपने मौसमी वर्षा पूर्वानुमान में देश के चार क्षेत्रों में कुछ छिटपुट बारिश की उम्मीद कर रहा है जिसमें मध्य भारत, उत्तरी क्षेत्र, दक्षिण प्रायद्वीप और उत्तर शामिल हैं। देश का पूर्वी भाग.

पिछले साल कैसा था मॉनसून?

पिछले साल, मानसून 96 प्रतिशत की सामान्य वर्षा के मुकाबले 94.4 प्रतिशत पर ‘सामान्य से नीचे’ था। कम बारिश के कारण इस समय महाराष्ट्र के कई हिस्सों में सूखे की स्थिति है। राज्य में पेयजल से लेकर कृषि जल तक पानी की भारी कमी है. ऐसे में ज्यादा बारिश किसानों के लिए अच्छी खबर ला सकती है.

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी