WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

Pyaj ka bhav – किसान हुए परेशान खेतो में खराब हो रही प्याज की फसल देखे हकीकत

Pyaj ka bhav – नमस्कार किसान साथियों किसान मित्रों प्याज का सीजन चल रहा है आज से 1 सप्ताह भर पहले जो प्याज 20 से ₹25 किलो बिक रही थी । आज वही प्याज 2 से ₹3 किलो बिकने लगा है । जानेंगे सबसे ज्यादा प्याज उत्पादक है सीकर जिला , के अंदर मंडियों के हालात और किसानों की मजबूरी और प्याज का भाव ।

Pyaj ka bhav
Pyaj ka bhav

मार्केट में प्याज की स्थानीय फसल आते ही किसानों को खरीददार नहीं मिल रहे ।

बिल्कुल ही सस्ते भाव को देखते हुए सीकर व रसीदपुरा मंडी में 30 से 40 फ़ीसदी कारोबारियों ने बड़े स्तर पर आवक शुरू होने के कारण काउंटर शुरू नहीं किए हैं । 10 दिनों में 7 से ₹10 प्रति किलो तक बिकने वाले प्याज के थोक भाव ( Pyaj ka bhav ) में ₹5 प्रति किलो तक की गिरावट आ चुकी है । किसान साथियों फरवरी के प्रथम सप्ताह में 7 से ₹10 किलो तक थोक भाव में बिकने वाले लोकल प्याज के दाम अब 3:00 से ₹4 किलो हो चुके हैं ।

यह भी जाने – आज का बीकानेर मंडी का भाव

पढने वाली लडकियो को मिलेंगे 20 हजार रूपए यहाँ क्लिक करे

सीकर व रसीदपुरा प्याज मंडी में 3 से ₹5 प्रति किलो के भाव में भी किसानों को प्याज का खरीददार नहीं मिल रहा है । दोनों मंडियों में किसान मित्रों रोजाना प्याज की दैनिक आवक 15000 कट्टे तक आ चुकी है । नई फसल की आवक होने के साथ ही भाव ( Pyaj ka bhav ) में आई बड़ी गिरावट से किसानों को लागत मूल्य भी नहीं मिल रहा है । किसान परेशान है किसानों को खेती में हुई लागत भी पूरी नहीं मिल पा रही है ।

किसानों को 5 से ₹6 प्रति किलो तक घाटा – ( Pyaj ka bhav )

प्याज की खेती करने वाले किसानों को थोक भाव में भारी गिरावट के कारण 5 से ₹6 प्रति किलो तक उपज का घाटा हो रहा है । किसानों के अनुसार प्याज की उपज की लागत प्रति किलो ₹9 से भी ज्यादा आ रही है जबकि थोक भाव में प्याज 3 से ₹5 ( Pyaj ka bhav ) प्रति किलो के हिसाब से खरीदा जा रहा है । एक बीघा में प्याज की और उपाय जी की अगर बात की जाए तो साथियों लगभग 32 क्विंटल मानी जाती है जिसमें 30 से ₹32000 तक का खर्च आता है। एक बीघा प्याज की खेती का पोस्ट खर्चा निकाला जाए तो लगभग 9.50 रुपए प्रति किलो बैठता है।

आढतियो को ही करनी पड़ रही है प्याज की सप्लाई –

सीकर में रसीदपुरा मंडी में दिल्ली पंजाब हरियाणा और केरल सहित देशभर से प्याज खरीददार आते हैं । इस साल मार्केट में मंदी को देखते हुए एक भी खरीदार नहीं आ रहा। प्याज कारोबारी मूलचंद एवं प्रसाद कुलहरी के अनुसार शुक्रवार को रशीदपुरा मंडी में दूसरे राज्यों से एक भी खरीदा नहीं आए आढ़तियों को ही मार्केट तलाश कर किसानों का प्याज आसपास की लोकल मंडियों में सप्लाई करना पड़ रहा है ।

प्रधानमंत्री मोदी का किसानो को संबोधन यहाँ क्लिक करे

Pyaj ka bhav – भाव के इंतजार में खेतों में ही खराब हो रही है प्याज की पैदावार –


अगेती बुवाई होने से जिले भर में 70 50% पकाव की स्थिति में आ चुकी है । रसीदपुरा खुड़ी मैलासी झीगर बड़ी झीगर छोटी सांवलोदा अक्वा कीरडोली सहित प्याज उत्पादक दर्जनों गांवों में फसलों की कटाई शुरू हो चुकी है ।
ज्यादातर किसानों ने फसल कटाई के बाद खुले में रख दिया है सुरक्षित भंडारण नहीं होने से प्याज खराब होने की स्थिति बन रही है कई किसानों ने भाऊ के इंतजार में पकी हुई फसल की कटाई भी रोक दी है जो खराब होने लगी है।
ऐसे में किसान मित्रों अगर देखा जाए तो अबकी बार प्याज के अंदर भारी मंदी दिखाई दे रही है। अबकी बार प्याज का बंपर उत्पादन निकलने की संभावना और कारोबारियों द्वारा प्याज की खरीद नहीं करना सबसे बड़ा गिरावट का कारण माना जा रहा है।
अगर आपके पास उचित भंडारण क्षमता और तकनीक है तो आप प्याज की फसल का स्टॉक कर सकते हैं जो कि आपको आगामी समय में एक अच्छा खासा मुनाफा देकर जाएगा ।

सभी फसलो की तेजी मंदी रिपोर्ट यहाँ क्लिक करे

सिंचाई पाईप लाइन सब्सिडी योजना 2023 यहाँ क्लिक करे

किसान साथियों व्यापार अपने विवेक से करें हमारा उद्देश्य सिर्फ किसान तक स्टिक और समय पर जानकारी पहुंचाना है धन्यवाद जय जवान जय किसान और जय किसान।

प्याज का भाव | राजस्थान प्याज का भाव | आने वाले समय में प्याज का भाव क्या रहेगा | महाराष्ट्र में प्याज का भाव क्या है , आज का प्याज का भाव क्या है | प्याज का भाव आज का 2022 | प्याज का भाव कब बढ़ेगा |

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी