WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

देश में इतना बंचा है गेंहू का स्टॉक सरकार के लिए बनेगा परेशानी जाने ताजा रिपोर्ट

गेंहू का स्टॉक – केंद्रीय पूल में 1 मार्च 2023 116.7 लाख टन गेहूं स्टॉक उपलब्ध था जो फरवरी में 154.44 लाख टन था यानि फरवरी के मुकाबले मार्च में गेहूं का स्टॉक 37.74 लाख टन घटा। OMSS के तहत बिक्री किये जाने से स्टॉक में आई गिरावट। 16 मार्च को केंद्रीय पूल में गेहूं का स्टॉक 100.55 लाख टन आया। यानी इन 15 दिनों में केंद्रीय पूल में गेहूं का स्टॉक 16.15 लाख टन घटा। अगर अगले सीजन में सरकारी खरीद को समर्थन नहीं मिल पाया तो भविष्य में यह सरकार के लिए परेशानी बन सकती है।

गेंहू का स्टॉक
गेंहू का स्टॉक

देश के पूर्वोतर राज्यों में खाधान्य stock

देश के पूर्वोत्तर राज्यों में 6.49 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक देश के पूर्वोत्तर राज्यों में 16 मार्च 2023 को करीब 5.68 लाख टन चावल एवं 82 हजार टन गेहूं के साथ कुल 6.49 लाख टन से अधिक खाद्यान्न का स्टॉक उपलब्ध है। इसके तहत आसाम में सर्वाधिक 4.43 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक मौजूद था जिसमें 3.70 लाख टन चावल एवं 73 हजार टन गेहूं की मात्रा शामिल थी।

बकरी पालन पर 50 लाख तक अनुदान / NLM- NATIONAL LIVE STOCK MISSION

खेत में डिग्गी निर्माण के लिए 3 लाख रूपए का अनुदान दे रही सरकार

इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश में 33 हजार टन चावल का स्टॉक बचा हुआ था जबकि गेहूं का कोई स्टॉक उपलब्ध नहीं था । मणिपुर एवं नागालैंड में भी गेहूं का स्टॉक समाप्त हो चुका था। केन्द्रीय पूल में स्टॉक कम होने से वहां गेहें का स्टॉक भेजने में कठिनाई हो रही है। लेकिन मिलर्स को फरवरी में इसका स्टॉक उपलब्ध करवाया गया था। खाद्यान्न का कुल स्टॉक त्रिपुरा में करीब 30 हजार टन दर्ज किया गया जिसमें 24 हजार टन चावल एवं 6 हजार टन गेहूं की मात्रा शामिल थी। गेंहू का स्टॉक

देश के इन् राज्यों में गेंहू का स्टॉक खतम

इसी तरह मिजोरम में 16 हजार टन चावल एवं 1331 टन गेहूं के साथ करीब 17 हजार टन खादयान्न का स्टॉक उपलब्ध था जबकि मेघालय में 25 हजार टन चावल एवं 1000 टन गेहूं के साथ कुल 26 हजार टन खाद्यान्न का स्टॉक मौजूद था। मणिपुर में 32 हजार टन एवं नागालैंड में 50 हजार टन चावल का स्टॉक बचा हुआ था जबकि गेहं का स्टॉक खत्म हो गया था। अन्य प्रांतों में भारतीय खाद्य निगम के साथ-साथ प्रांतीय एजेंसियों के पास भी चावल एवं गेहूं का स्टॉक मौजूद रहता है जो केन्द्रीय पूल के लिए होता है।

सिंचाई पाईपलाइन सब्सिडी योजना 2023 – किसानो को दिया जा रहा है पाईपलाइनो पर अनुदान

Solar Pump Subsidy Yojana – सोलर पंप पर किसानो को दि जा रही है 100 फीसदी सब्सिडी

बिहार में खाद्य निगम के पास 6.34 लाख टन एवं प्रांतीय एजेंसियों के पास 40 लाख टन सहित कुल 10.34 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक मौजूद था। इसी तरह झारखंड में 1.78 लाख टन, उड़ीसा में 6.39 लाख टन एवं पश्चिम बांग्ला में 7.66 लाख टन सहित पूर्वी राज्यों में कुल 26.26 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक मौजूद था। पूर्वोत्तर क्षेत्र में 6.50 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक था। गेंहू का स्टॉक

उतरी भारत में कुल स्टॉक मात्रा

उत्तरी क्षेत्र में खाद्यान्न का कुल स्टॉक 136.98 लाख टन था जिसके तहत दिल्ली में 1.77 लाख टन, हरियाणा में 22.57 लाख टन, हिमाचल प्रदेश में 58 हजार टन, जम्मू कश्मीर में 1.76 लाख टन, पंजाब में 74.25 लाख टन, खाद्यान्न में 5.65 लाख टन, उत्तर प्रदेश में 28.86 लाख टन एवं झारखंड में 1.54 लाख टन शामिल था। इसमें गेहूं और चावल दोनों शामिल है। दक्षिण भारत में कुल 48.66 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक उपलब्ध था।

इसके तहत आंध्र प्रदेश में 16.06 लाख टन, कर्नाटक में 7.28 लाख टन, केरल में 4.21 लाख टन, तमिलनाडु में 7.29 लाख टन तथा तेलंगाना में 13.82 लाख टन का स्टॉक शामिल था। इसी तरह देश के पश्चिमी राज्यों में कुल 103.59 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक बचा हुआ था जिसके तहत गुजरात में 6.93 लाख टन, महारष्ट्र में 11.43 लाख टन, मध्य प्रदेश में 63.09 लाख टन एवं छत्तीसगढ़ में 21.74 लाख टन का स्टॉक सम्मिलित था। इस प्रकार कुल 321.99 लाख टन खाद्यान्न का स्टॉक भारतीय खाद्य निगम एवं प्रांतीय एजेंसियों के पास मौजूद था। गेंहू का स्टॉक

क्या सरकार खोलेगी गेंहू का निर्यात जाने गेंहू बाजार की बड़ी ख़बरे : गेहूं का वैश्विक बाजार भाव सुधरने के संकेत

काबुली चना भाव – विदेशों में भारी मांग निकलने से के काबुली चना का निर्यात बढ़ने संकेत

किसान साथियो व्यापार अपने विवेक से करे

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी