WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

खाद्य तेल रिपोर्ट 2023 ,जाने सरसों बिनोला सोया देसी घी राइस तेलों में तेजी मंदी

नमस्कार किसान साथियो खाद्य तेल रिपोर्ट 2023 जानेगे आज की इस पोस्ट के अंदर , खाद्य तेलों के अंदर मजबूती दर्ज होगी या मंदी और कौनसा तेल मंदा होगा या तेज सभी जानकारी आज की इस पोस्ट के नादर निचे दि गयी है .

सीपीओ आयल : ज्यादा तेजी नहीं

विदेशों में सीपीओ के 930 डॉलर प्रति टन पर होने और आयातकों की बिक्री में कमी के कारण कांडला में पाम तेल के दाम 7950 रुपये प्रति क्विंटल बोले गए। कमजोर निर्यात और सट्टेबाजों की बिकवाली के कारण मलेशिया में पाम तेल के वायदा भाव में मामूली गिरावट आई। सप्लाई और डिमांड को देखते हुए आने वाले दिनों में इसमें और बढ़ोतरी या कमी की संभावना नहीं है.

बिनौला तेल भाव : स्थिरता की आशा

हरियाणा और पंजाब में बिक्री तथा रिफाइंड और वनस्पति घी निर्माताओं की मांग के कारण बिनौला तेल की कीमतें 200 रुपये घटकर 9,000 रुपये प्रति क्विंटल रह गईं। हालांकि, पंजाब की मंडियों में बिक्री घटने से बिनौला के दाम 200 रुपये बढ़कर 3300/3500 रुपये प्रति क्विंटल हो गये. सप्लाई और डिमांड को देखते हुए इसमें ज्यादा बदलाव की संभावना नहीं है.

भारी बारिश से डूबा रेलवे ट्रैक 5 संभागों में जोरदार बारिश का अलर्ट जारी – Imd alert

धान की फसल में लगने वाले रोगों से ऐसे करे बंचाव ,धान की फसल में लगाने वाले किट और उपचार

यूपी एसडीएम ज्योति मौर्या के मामले के बाद एक पति ने अपनी पत्नी के साथ कर दिया ऐसा मामला SDM Jyoti Mourya

देसी घी का भाव – स्टॉक माल की कमी

देसी घी के प्लांट चौतरफा बंद हो गए हैं। कंपनियां मौजूदा कीमत पर ज्यादा सामान नहीं दे रही हैं. मिलावटी सामान जरूर कम दाम पर बिक रहा है, जिसके चलते अच्छा देसी घी भी दुकानदार मंडियों में 10 रुपये सस्ता करके बेच रहे हैं। श्रावदी की मांग चौतरफा होने लगी है, इसलिए आने वाले समय में वसा की कमी होने वाली है। देसी घी का स्टॉक भी ज्यादा नहीं है, जिससे बाजार में तेजी बनी रहेगी।

सरसों का भाव कब बढ़ेगा 2023 ,खाद्य तेल रिपोर्ट 2023

पशुचारा की मांग और आपूर्ति में कमी के कारण सरसों तेल की कीमतें 2600/2800 रुपये प्रति क्विंटल पर टिकी रहीं। हापुड मंडी में इसका भाव 2900/2950 रुपये प्रति क्विंटल बोला गया. जयपुर में मांग घटने से इसके भाव 2575/2600 रुपये प्रति क्विंटल बोले गये. सप्लाई और डिमांड को देखते हुए तेजी की गुंजाइश नहीं दिख रही है.

ग्वार के भाव में लगा 2 फीसदी निचला सर्किट जाने अब ग्वार भाव में तेजी कब आएगी 2023

सरसों तेल भाव : गिरावट की उम्मीद कम है खाद्य तेल रिपोर्ट 2023

हाल ही में विदेशी खाद्य तेलों में तेजी के रुख और कमजोर सप्लाई के कारण सरसों तेल की कीमतों में 800 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी हुई है. आगे भी इसमें नरमी की कोई गुंजाइश नहीं है.
सुधि पाठकों को समय-समय पर सरसों तेल में तेजी से मंदी के समाचार पढ़ने को मिलते रहते हैं

ताजा सर्वेक्षण के अनुसार विदेशी तेलों में तेजी का रुख जारी रहने और आपूर्ति कमजोर होने से एक पखवाड़े के दौरान सरसों तेल के भाव 800 से रु. .10,400 प्रति क्विंटल. सरसों का तेल 100 रुपये बढ़कर 1750/1975 रुपये टिन पर पहुंच गया। आपूर्ति कम होने के कारण उक्त अवधि में दादरी मंडी में इसकी कीमत 800 रुपये बढ़कर 10,300 रुपये प्रति क्विंटल हो गयी. बिहार, बंगाल, जयपुर की मांग से सरसों तेल कच्ची घानी के भाव में 20 रुपये की तेजी 800 से रु. गंगानगर में 10600 प्रति क्विंटल और रु. 10400 प्रति क्विंटल. उक्त अवधि में विदेशी तेलों में आयातकों की बिकवाली घटने से सोयाबीन तेल की कीमतों में उछाल आया।

सरसों का बाजार कैसा है

नतीजा यह हुआ कि सरसों तेल में तेजी को बढ़ावा मिला। सरसों का उत्पादन मुख्य रूप से राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, बिहार, बंगाल आदि राज्यों में किया जाता है। मार्च माह में आयोजित रवि सेमिनार में सरसों का उत्पादन लगभग 113 लाख होने का अनुमान लगाया गया है। टन. जबकि आधिकारिक अनुमान 128 लाख टन से ज्यादा का जताया गया है. ,खाद्य तेल रिपोर्ट 2023

देश की विभिन्न मंडियों में सरसों लूज अवस्था में 4800/4900 रुपये प्रति क्विंटल बिक रही है। जो समर्थन मूल्य से काफी नीचे है. गौरतलब है कि सरसों का समर्थन मूल्य 5425 रुपए है। फिलहाल सरसों की तेजी और आपूर्ति को देखते हुए आने वाले समय में सरसों तेल की कीमतों में ज्यादा मंदी की संभावना नहीं है। बाजार 400/500 रुपये के उतार-चढ़ाव के बीच चलता रह सकता है।

चावल की भूसी का तेल: अब नहीं रही तेजी खाद्य तेल रिपोर्ट 2023

हाल ही में विदेशी तेलों की कीमतों में बढ़ोतरी और आपूर्ति में कमी के कारण चावल की भूसी के तेल की कीमत में 1000 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी हुई है। भविष्य में इसमें और बढ़ोतरी की कोई गुंजाइश नहीं है.
बिपरजया तूफान के कारण विदेशी तेलों की आपूर्ति में व्यवधान की आशंका बढ़ गई है। उधर, विदेशों में खाद्य तेलों की कीमतों में हाल ही में तेजी आई है, जिससे बिकवाली कम होने से विदेशी तेलों की कीमतों में उछाल आया है। रिफाइंड या ब्लेंडिंग की मांग के कारण पंजाब में चावल भूसी तेल की कीमतें एक महीने में निचले स्तर से 1000 रुपये बढ़कर 8300 रुपये प्रति क्विंटल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। चावल की भूसी तेल रिफाइंड की कीमतों में 2 रुपये की बढ़ोतरी 1000 से रु. कमजोर बिकवाली के कारण कोलकाता में 9600 रुपये प्रति क्विंटल। उठाव नहीं होने से अखाद्य ग्रेड के दाम भी 1000 रुपए बढ़कर 7850 रुपए प्रति क्विंटल हो गए।

कमजोर बिक्री के कारण महाराष्ट्र की मंडियों में इसकी कीमत 800 रुपये बढ़कर 9550 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है. देश में धान की फसल खराब होने की आशंका के कारण इस वर्ष चावल के तेल की उपलब्धता में कमी आने की आशंका थी और इसके साथ ही विदेशी खाद्य तेलों की कीमतों में बढ़ोतरी ने चावल के तेल को बढ़ावा दिया। अन्य खाद्य तेलों की तुलना में कीमतें कम होने के कारण चावल की भूसी के तेल की मांग रहने की उम्मीद है। देश में चावल की भूसी के तेल का उत्पादन लगभग 10 लाख टन है। उक्त अवधि के दौरान पाम तेल और पाम तेल की कीमतों में सुधार हुआ , खाद्य तेल रिपोर्ट 2023

error: मित्र मेहनंत लगती है लिखने में , dmca लेना है तो कर लो कॉपी